Thursday, November 30, 2023
No menu items!
Homeएजुकेशननेशनल काउंसिल ऑफ एड्यूकेशनल रिसर्च एंड ट्रेनिंग (NCERT) की आवाजाही: स्कूल पाठ्यपुस्तकों...

नेशनल काउंसिल ऑफ एड्यूकेशनल रिसर्च एंड ट्रेनिंग (NCERT) की आवाजाही: स्कूल पाठ्यपुस्तकों में ‘इंडिया’ की जगह ‘भारत’ का प्रस्ताव

‘इंडिया’ Vs ‘भारत’: एक महत्वपूर्ण कदम है, जो भारतीय स्कूलों में इतिहास और पहचान को कैसे पढ़ाया जाता है, उसे नया आकार दे सकता है, राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद (NCERT) द्वारा नियुक्त सामाजिक विज्ञान के एक उच्च-स्तरीय पैनल ने ‘इंडिया’ नाम की जगह ‘भारत’ नाम की सिफारिश की है। कक्षा 5 से 12 तक के छात्रों के लिए डिज़ाइन की गई पाठ्यपुस्तकों में ‘भारत’ शब्द का प्रयोग होगा। यह महत्वपूर्ण प्रस्ताव शैक्षिक पाठ्यक्रम को सुधारने और इसे 2020 की राष्ट्रीय शिक्षा नीति (NEP) के साथ संरेखित करने की एक व्यापक पहल का हिस्सा है।

‘इंडिया’ Vs ‘भारत’: ‘इंडिया’ से अधिक ‘भारत’ का प्रस्ताव

सीआई इस्साक की अध्यक्षता वाली समिति ने साहसपूर्वक सुझाव दिया है कि पाठ्यपुस्तकों में राष्ट्र को समान रूप से ‘भारत’ के रूप में संदर्भित किया जाना चाहिए। हालांकि इस प्रस्ताव को अभी तक आधिकारिक मंजूरी नहीं मिली है, लेकिन इसने काफी बहस और चर्चा को जन्म दिया है। यह गहरे सांस्कृतिक और ऐतिहासिक महत्व वाले नाम के रूप में ‘भारत’ के महत्व पर जोर देने की दिशा में एक साहसिक कदम का प्रतिनिधित्व करता है।

इतिहास को पुनः परिभाषित करना: ‘प्राचीन’ से ‘शास्त्रीय’ तक

पैनल की एक और उल्लेखनीय सिफारिश स्कूल पाठ्यक्रम में ‘प्राचीन इतिहास’ शब्द को ‘शास्त्रीय इतिहास’ से प्रतिस्थापित करना है। शब्दावली में इस बदलाव का उद्देश्य भारत की समृद्ध और स्थायी विरासत और सदियों से सभ्यता में किए गए योगदान पर जोर देना है। यह इस विचार को रेखांकित करता है कि ‘शास्त्रीय इतिहास’ भारत के अतीत की स्थायी प्रासंगिकता को बेहतर ढंग से प्रस्तुत करता है।

सभी विषयों में भारतीय ज्ञान प्रणाली को शामिल करना

समिति सभी विषयों के पाठ्यक्रम में भारतीय ज्ञान प्रणाली (IKS) को शामिल करने की सिफारिश कर रही है। यह एक महत्वपूर्ण प्रस्ताव है जिसका उद्देश्य भारतीय सांस्कृतिक और दर्शनिक धारा को स्कूल पाठ्यक्रम का हिस्सा बनाना है।

‘भारत’ नाम का व्यापक इस्तेमाल

इस सिफारिश के अंतर्गत, ‘भारत’ नाम का व्यापक इस्तेमाल बड़े पैमाने पर किया जाएगा, ताकि छात्र भारत की ऐतिहासिक, सांस्कृतिक और वैज्ञानिक विरासत को समझ सकें।

इस समय, यह सिफारिश केवल सामाजिक विज्ञान पाठ्यक्रम के पाठ्यक्रम के संदर्भ में है, लेकिन आने वाले समय में इसका व्यापक अंदाजा किया जा सकता है कि इस प्रस्ताव को अन्य विषयों और पाठ्यक्रमों में भी लागू किया जा सके।

‘हिंदू विजय’ पर एक नवीनीकृत फोकस

इन सिफ़ारिशों के अलावा, पैनल यह भी पुनर्मूल्यांकन करने का आह्वान करता है कि भारतीय इतिहास को पाठ्यपुस्तकों में कैसे प्रस्तुत किया जाता है। वे विभिन्न लड़ाइयों में भारत की जीत की अधिक व्यापक जांच का प्रस्ताव करते हैं, विशेष रूप से “हिंदू जीत” पर प्रकाश डालते हैं। समिति का तर्क है कि वर्तमान में पाठ्यपुस्तकों में ऐतिहासिक विफलताओं का उल्लेख किया जाता है, लेकिन मुगलों और सुल्तानों पर विजय को अक्सर नजरअंदाज कर दिया जाता है। इस बदलाव का उद्देश्य छात्रों को भारत के अतीत पर एक संतुलित परिप्रेक्ष्य देना है, जहां जीत और असफलता दोनों को मान्यता दी जाती है।

हालांकि यह सिफारिशें NCERT द्वारा बनाई गई हैं और इन्हें अभी तक आधिकारिक मंजूरी नहीं मिली है। NCERT और शिक्षा मंत्रालय के बीच आगे की चर्चा और निर्णय के बाद ही यह प्रस्ताव अंत में अमल में आ सकता है।

 

Read More: इजराइल और फिलिस्तीन युद्ध- इतिहास, वर्तमान स्थिति और शांति की संभावनाओं की खोज

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments