Tuesday, July 23, 2024
No menu items!
Homeट्रेन्डिंग्खालिस्तान टाइगर फोर्स के प्रमुख हरदीप निज्जर की गोली मारकर हत्या –...

खालिस्तान टाइगर फोर्स के प्रमुख हरदीप निज्जर की गोली मारकर हत्या – धार्मिक भावनाओं की आढ़ में हिंसा और अत्याचार

हाल की एक बड़ी घटना में, गुरु नानक सिख गुरुद्वारा साहिब और खालिस्तान टाइगर फोर्स के प्रमुख हरदीप सिंह निज्जर को कनाडा के सरे शहर में एक गुरुद्वारा साहिब के परिसर के भीतर घातक रूप से गोली मार दी गई। निज्जर, जो खालिस्तान टाइगर फोर्स के संचालन, नेटवर्किंग, प्रशिक्षण और सदस्यों के वित्तपोषण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने के लिए जाना जाता है, अपने पीछे धार्मिक भावनाओं से जुड़ी हिंसा और अशांति की विरासत छोड़ गया है।

निज्जर की हत्या न्याय की खोज में एक ज़रूरी पड़ाव है, क्योंकि उसके अपराध और आपराधिक समबन्ध लंबे समय से चिंता का कारण रहे हैं। उसके आपत्तिजनक बयानों, आपत्तिजनक सामग्री और सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर नफरत फैलाने वाले भाषणों के प्रसार ने देशद्रोही धारणाओं के उदय में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। इसके अतिरिक्त, सिख फॉर जस्टिस के साथ उसका घनिष्ठ संबंध और हाल के ऑस्ट्रेलियाई वोटिंग संग्रह के मतदान में उसकी भागीदारी अलगाववादी विचारधाराओं को बढ़ावा देने में उसके गहरे जुड़ाव को दर्शाती है।

इसी तरह, परमजीत सिंह पंजवार लाहौर की सनफ्लावर सोसाइटी में अपने घर के पास अपनी नियमित मॉर्निंग वॉक पर था। यह एक सामान्य दिन था। एक बाइक पर सवार दो बंदूकधारियों ने गोलियां चलाईं और खालिस्तान कमांडो फोर्स के प्रमुख खून से लथपथ होकर गिर पड़े। खालिस्तान के एक प्रमुख प्रतिपादक और अलगाववादी अमृतपाल सिंह के हैंडलर अवतार सिंह खांडा का ब्रिटेन के एक अस्पताल में निधन हो गया। खांडा को हाल ही में टर्मिनल कैंसर का पता चला था। लेकिन दिलचस्प बात यह है कि उनकी मौत का कारण जहर बताया गया। निज्जर, पंजवार और खंडा उन चार प्रमुख खालिस्तानी आतंकवादियों में शामिल हैं जिनकी हाल के महीनों में विदेश में रहस्यमय ढंग से मौत हो गई है।

जनवरी में लाहौर के पास एक गुरुद्वारे के परिसर में हरमीत सिंह उर्फ हैप्पी पीएचडी की हत्या कर दी गई थी। हरमीत सिंह नार्को-टेरर और खालिस्तानी आतंकियों को ट्रेनिंग और ट्रेनिंग देने में शामिल था। वह 2016-2017 में पंजाब में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के नेताओं की हत्याओं में शामिल था। कनाडा में, खालिस्तानी समर्थकों ने भारतीय दूतावास के बाहर विरोध प्रदर्शन किया और भारतीय मूल के पत्रकारों पर हमला किया। कनाडा में हाई कमीशन पर विरोध प्रदर्शन के दौरान एक ग्रेनेड भी फेंका गया। खालिस्तान समर्थकों द्वारा किए गए हमलों की जांच अब राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने अपने हाथ में ले ली है।

राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने निज्जर के खिलाफ मामला दर्ज किया था, और 2018 में उसका नाम पंजाब के तत्कालीन मुख्यमंत्री द्वारा कनाडा के प्रधान मंत्री जस्टिन ट्रूडो को दी गई एक वान्टेड सूची में शामिल किया गया था। इसके अलावा, पंजाब पुलिस निज्जर के खिलाफ विभिन्न मामलों की जांच कर रही थी, जिसके कारण रेड कॉर्नर नोटिस जारी किया गया था। ये कार्रवाइयाँ हिंसा के अपराधियों को सज़ा देने के लिए भारत और विदेशों में कानून प्रवर्तन एजेंसियों की एकजुटता को प्रदर्शित करती हैं।

निज्जर की हत्या से पहले, एनआईए ने खालिस्तान टाइगर फोर्स की गतिविधियों पर अंकुश लगाने में काफी प्रगति की थी। इस घटना के महज दस दिन पहले हरियाणा में प्रतिबंधित संगठन के अहम सदस्य गगनदीप सिंह को पकड़ा गया था। सिंह की गिरफ्तारी ने सीमा पार हथियारों की तस्करी और प्रतिबंधित केटीएफ को फंड करने के लिए जबरन वसूली के रैकेट में उसकी भागीदारी का खुलासा किया।

यह हालिया गिरफ्तारी पंजाब, हरियाणा, दिल्ली और राजस्थान में खालिस्तान आतंकवादियों द्वारा संचालित संगठित अपराध सिंडिकेट और उसके नेटवर्क पर कार्रवाई के परिणाम का हिस्सा है। एनआईए के प्रयासों के परिणामस्वरूप लकी खोखर (उर्फ डेनिस), जस्सा सिंह, अमृतपाल सिंह (उर्फ अम्मी) और अमरीक सिंह जैसे अपराधियों की गिरफ्तारी हुई है। इन गिरफ्तारियों ने खालिस्तान आंदोलन के बुनियादी ढांचे और संचालन को एक बड़ा झटका दिया है।

कानून प्रवर्तन एजेंसियों द्वारा इन आतंकवादियों का लगातार पीछा खालिस्तान आंदोलन द्वारा अपराध से भरी हुई धार्मिक भावनाओं के खिलाफ लड़ाई में एक महत्वपूर्ण मोड़ का संकेत देता है। भारतीय गृह मंत्रालय ने कनाडा में स्थित खालिस्तान टाइगर फोर्स के स्वयंभू प्रमुख हरजीत निज्जर को “व्यक्तिगत आतंकवादी” के रूप में नामित किया है। यह पदनाम आतंकवाद और अलगाववादी आंदोलनों के खतरे को खत्म करने की वैश्विक प्रतिबद्धता को और अधिक बढ़ावा देता है।

धार्मिक भावनाओं के नाम पर खालिस्तान आंदोलन द्वारा किए गए अत्याचारों ने भारी पीड़ा और क्षेत्र की शांति और सद्भाव को बाधित किया है। हालाँकि, जैसे-जैसे कानून और व्यवस्था मजबूत होती है और प्रमुख व्यक्ति अपने जुर्मों के परिणामों का सामना करते हैं या उनकी मृत्यु होती है, भविष्य के लिए आशा की एक किरण उभरती है जो एकता, समावेशिता और संवाद को प्राथमिकता देती है।

आने वाले समय के लिए निरंतर सतर्कता, अंतर्राष्ट्रीय सहयोग और अलगाववादी विचारधाराओं को बढ़ावा देने वाले मूल कारणों को दूर करने के लिए एक व्यापक दृष्टिकोण की आवश्यकता है। संवाद को बढ़ावा देकर, आर्थिक विकास को बढ़ावा देकर, और सभी के लिए समान अवसर सुनिश्चित करके, समाज एक ऐसा वातावरण बना सकता है जहाँ चरमपंथी विचारधाराएँ अपनी पकड़ बनाने में असमर्थ साबित हों।

हरदीप सिंह निज्जर की हत्या और खालिस्तान टाइगर फोर्स पर चल रही कार्रवाई इस बात की याद दिलाती है कि कोई भी व्यक्ति या संगठन कानून से ऊपर नहीं है। जैसे-जैसे आतंकवाद और उग्रवाद के खिलाफ लड़ाई गति पकड़ती है, राष्ट्रों, समुदायों और व्यक्तियों के लिए एकजुट होना और बेहतर भविष्य बनाना महत्वपूर्ण बन जाता है जहां मतभेदों का स्वागत किया जाता है, शिकायतों को शांतिपूर्ण तरीकों से संबोधित किया जाता है, और हिंसा पर सद्भाव कायम रहता है। केवल इस तरह के सामूहिक प्रयासों से ही हम एक ऐसे भविष्य का मार्ग प्रशस्त कर सकते हैं जहां धार्मिक विश्वास अपराध को बढ़ावा नहीं देता है, जिससे शांति, प्रगति और सह-अस्तित्व की दुनिया का गठन होता है।

 

और पढ़े :- मणिपुर में मैतई-नागा-कुकी संघर्ष की कहानी

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments