Tuesday, March 5, 2024
No menu items!
Homeट्रेन्डिंग्तबाहीजनक आपदाओं की रोकथाम: ओहियो और इतिहास से सबक

तबाहीजनक आपदाओं की रोकथाम: ओहियो और इतिहास से सबक

खतरनाक रसायनों को ले जा रही एक ट्रेन आंशिक रूप से पटरी से उतर गई, जिससे 3 फरवरी को पूर्वी ओहियो में भीषण आग लग गई। इस घटना को एक प्रमुख स्वास्थ्य संकट के रूप में वर्गीकृत किया गया और यह आसपास के क्षेत्र के निवासियों में गंभीर चिंता पैदा कर रही है। अमेरिकी पर्यावरण संरक्षण एजेंसी (ईपीए) के अनुसार, ट्रेन में 141 भरे हुए डब्बे थे, जिनमें से लगभग 20 डब्बों में खतरनाक सामग्री को ले जाया जा रहा था, जिसमें विनाइल क्लोराइड नाम का कार्सिनोजेन शामिल था जो इस घटना के बाद वहाँ की हवा, मिट्टी और पानी में मिल गया। ट्रेन का संचालन करने वाली कंपनी “नॉरफ़ॉक सदर्न” ने कुएं खोदकर भूजल की निगरानी के साथ-साथ साइट को साफ करने की योजना जारी की है।

ट्रेन का संचालन करने वाली कंपनी “नॉरफ़ॉक साउदर्न” द्वारा 6 फरवरी को विनाइल क्लोराइड के दहन से साइट के ऊपर एक विशाल आग का गोला और काले धुएं का गुबार बन गया, जिसने पर्यावरण और स्थानीय निवासियों को काफी नुकसान पहुंचाया है। मृत पालतू जानवर, मछलियों की लाशें और लोगों में सिरदर्द और आंखों में जलन जैसे शारीरिक लक्षणों की रिपोर्ट चिंताजनक है और इसके लिए तत्काल कार्रवाई की आवश्यकता है। यह संकट 1986 की चेरनोबिल रासायनिक आपदा से मेल खाता है।

ओहियो में ट्रेन पटरी से उतरना उन परिणामों का एक स्पष्ट उदाहरण है जो कि कानून प्रवर्तन एजेंसियों की अक्षमता और लापरवाही के चलते होते हैं। यह एजेंसियां ऐसी खतरनाक और विनाशकारी घटनाओं को रोकने के लिए सक्रिय उपाय करने में विफल रहती हैं। हमें इस तरह की आपदाओं को भविष्य में रोकने के लिए ज़िम्मेदारी की मांग करनी चाहिए और बदलाव की ओर ध्यान देना चाहिए।

ऐसी दुर्घटनाओं की एक गंभीर सूची है जो सख्त प्रोटोकॉल और उनके उचित कार्यान्वयन के महत्व को दर्शाती है। आइए इतिहास की कुछ सबसे घातक आपदाओं की जाँच करें:

1. चेरनोबिल आपदा

चेरनोबिल आपदा, जो 26 अप्रैल, 1986 को हुई थी, इतिहास की सबसे त्रासक परमाणु दुर्घटनाओं में से एक है। यूक्रेन में चेरनोबिल परमाणु ऊर्जा संयंत्र में रिएक्टर विस्फोट ने बड़ी मात्रा में रेडियो एक्टिव सामग्री को वायुमंडल में छोड़ा, जिससे 30 से अधिक लोगों की तत्काल मृत्यु हो गई और दसियों हज़ार खतरनाक रेडिएशन के संपर्क में आ गए। इस आपदा के लम्बे समय तक रहने वाले स्वास्थ्य प्रभावों का अभी भी अध्ययन किया जा रहा है, लेकिन माना जाता है कि इससे कैंसर और अन्य बीमारियों में वृद्धि हुई है। पॉवर प्लांट के आसपास का क्षेत्र, जिसे “एक्सक्लूसिव ज़ोन” के नाम से जाना जाता है उसका निर्जन हो जाना, परमाणु सुविधाओं में सुरक्षा उपायों के महत्व की याद दिलाता है।

2. हैलिफ़ैक्स हार्बर विस्फोट

हैलिफ़ैक्स हार्बर विस्फोट, 1917 में प्रथम विश्व युद्ध के दौरान हुआ था, जिसे दुनिया का सबसे विशाल पूर्व-परमाणु विस्फोट माना जाता है। विस्फोटक कार्गो ले जा रहे दो जहाजों के बीच टक्कर विस्फोट का कारण बनी,जिसने हैलिफ़ैक्स, नोवा स्कोटिया के अधिकांश हिस्से को नष्ट कर दिया और आसपास के क्षेत्रों को काफी नुकसान पहुँचाया। 2,000 से अधिक लोग मारे गए, हजारों घायल हुए, और हजारों लोग बेघर हो गए। यह त्रासदी विशेष रूप से युद्ध के समय विस्फोटक सामग्री के उचित संचालन और परिवहन के महत्व पर प्रकाश डालती है। हैलिफ़ैक्स शहर को दोबारा बसाया गया है और सालाना एक विशेष स्मारक सेवा के साथ इस घटना को याद किया जाता है।

3. भोपाल गैस त्रासदी

भोपाल गैस त्रासदी, जो 1984 में भारतीय शहर भोपाल में हुई थी, उसे इतिहास की सबसे त्रासक औद्योगिक आपदाओं में से एक माना जाता है। यूनियन कार्बाइड इंडिया लिमिटेड के स्वामित्व वाले एक कीटनाशक उत्पादन प्लांट में गैस लीकेज ने आसपास के रिहायशी इलाकों में जहरीली गैस छोड़ी, जिससे हजारों लोगों की मौत हुई और सैकड़ों हजार घायल हुए। आपदा के दीर्घकालिक स्वास्थ्य प्रभावों को अभी भी महसूस किया जा रहा है, कई जीवित बचे लोग पुरानी स्वास्थ्य समस्याओं से पीड़ित हैं। इस घटना ने बेहतर औद्योगिक सुरक्षा उपायों और कॉर्पोरेट जिम्मेदारी की आवश्यकता पर प्रकाश डाला, जिससे भारत और अन्य देशों में बेहतर नियमों और सुरक्षा प्रावधानों का मार्ग प्रशस्त हुआ।

4. फिलिप्स 66

1989 में पैसेडीना, टेक्सस में फिलिप्स 66 के पेट्रोकेमिकल कॉम्प्लेक्स में बड़े पैमाने पर विस्फोट हुआ, जिसमें 23 लोगों की मौत हुई और 130 से अधिक घायल हुए। धमाका ज्वलनशील रसायनों के कारण हुआ था, जो प्रज्वलित हो गए, जिसके परिणामस्वरूप विनाशकारी आग लगी जो कई घंटों तक चली। Phillips 66 ने नए सुरक्षा नियमों को लागू किया और अपनी सुरक्षा स्थिति में सुधार के लिए निवेश किया। साथ ही साथ, इस घटना ने पेट्रोकेमिकल उद्योग में प्रक्रिया सुरक्षा के महत्व पर ध्यान आकर्षित किया और संयंत्र सुरक्षा के लिए नए नियमों और दिशानिर्देशों को बढ़ावा दिया।

5. डीपवाटर होराइजन तेल रिसाव

2010 में मेक्सिको की खाड़ी में डीपवाटर होराइजन तेल रिसाव एक विनाशकारी पर्यावरणीय आपदा थी, जो डीपवाटर होराइजन तेल रिग में विस्फोट और आग के कारण हुई थी, जिसमें 11 लोगों की मौत हो गई थी और जिसके परिणामस्वरूप 87 दिनों तक तेल रिसाव हुआ था। लाखों बैरल तेल समुद्र में जा मिला, जिससे पर्यावरण और स्थानीय समुदायों को व्यापक नुकसान हुआ। बीपी ने ऑफशोर ड्रिलिंग से जुड़े जोखिमों के साथ उद्योग में सुरक्षा उपायों और आकस्मिक योजनाओं के महत्व को उजागर करते हुए जुर्माने और मुआवजे के रूप में अरबों का भुगतान किया।

अगर हम इन ऐतिहासिक आपदाओं पर विचार करें तो इन सभी में एक बात सामान्य है: यह सभी आपदाएं रोकी जा सकती थी। मानवीय त्रुटि, कॉर्पोरेट लापरवाही, या अपर्याप्त सुरक्षा उपायों के कारण, प्रत्येक घटना के परिणामस्वरूप जीवन की दुखद हानि और पर्यावरण की क्षति हुई। हमें खुद से यह सवाल पूछना चाहिए कि भविष्य में ऐसी आपदाओं को होने से रोकने के लिए हम क्या कर सकते हैं? जवाब सुरक्षा को प्राथमिकता देने, सरकारी एजेंसियों को जवाबदेह ठहराने, और समुदायों द्वारा उठाई गई चिंताओं को सुनने की प्रतिबद्धता में निहित है। हमें इन पिछली त्रासदियों से सीखना चाहिए और भविष्य में ऐसे प्रावधान लाने चाहिए जिन से ऐसी आपदाएं अतीत की बात बन जाएं।

Read the article in English: Preventing Catastrophic Disasters: Lessons from Ohio and History

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments